Home National दुनिया में सबसे संतुष्‍ट भारत के मुस्लिम: मोहन भागवत

दुनिया में सबसे संतुष्‍ट भारत के मुस्लिम: मोहन भागवत


नई दिल्ली: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के सरसंघचालक मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) ने कहा कि भारतीय मुसलमान (Indian Muslims) दुनिया में सबसे ज्यादा संतुष्ट हैं. उन्होंने यह भी कहा कि जब भारतीयता की बात आती है तो सभी धर्मों के लोग एक साथ खड़े होते हैं. भागवत ने कहा कि किसी तरह की कट्टरता और अलगाववाद केवल वे ही लोग फैलाते हैं जिनके खुद के हित प्रभावित होते हैं.

सभी धर्मों के लोगों ने की देश की रक्षा
मुगल शासक अकबर (Mughal King Akbar) के खिलाफ युद्ध में मेवाड़ के राजा महाराणा प्रताप (Rana Maharana Pratap) की सेना में बड़ी संख्या में मुस्लिम सैनिकों के होने का जिक्र करते हुए भागवत ने कहा कि भारत के इतिहास में जब भी देश की संस्कृति पर हमला हुआ है तो सभी धर्मों के लोग साथ मिलकर खड़े हुए हैं.  संघ प्रमुख ने महाराष्ट्र (Maharashtra) से प्रकाशित होने वाली हिंदी पत्रिका ‘विवेक’ को दिये साक्षात्कार में कहा, ‘‘सबसे ज्यादा भारत के ही मुस्लिम संतुष्ट हैं.’

भारत में सभी धर्म समान: मोहन भागवत
उन्होंने कहा कि क्या दुनिया में एक भी उदाहरण ऐसा है जहां किसी देश की जनता पर शासन करने वाला कोई विदेशी धर्म अब भी अस्तित्व में हो. भागवत ने कहा, ‘कहीं नहीं. केवल भारत में ऐसा है.’ उन्होंने कहा कि भारत के विपरीत पाकिस्तान ने कभी दूसरे धर्मों के अनुयायियों को अधिकार नहीं दिये और इसे मुसलमानों के अलग देश की तरह बना दिया गया.

हमारा देश सबके लिए
भागवत ने कहा, ‘हमारे संविधान में यह नहीं कहा गया कि यहां केवल हिंदू रह सकते हैं या यह कहा गया हो कि यहां केवल हिंदुओं की बात सुनी जाएगी, या अगर आपको यहां रहना है तो आपको हिंदुओं की प्रधानता स्वीकार करनी होगी. हमने उनके लिए जगह बनाई. यह हमारे राष्ट्र का स्वभाव है और यह अंतर्निहित स्वभाव ही हिंदू कहलाता है.’

कौन किसकी पूजा करे, इससे हिंदुओं का लेना-देना नहीं
संघ प्रमुख ने कहा कि हिंदू का इस बात से कोई लेना-देना नहीं है कि कौन किसकी पूजा करता है. धर्म जोड़ने वाला, उत्थान करने वाला और सभी को एक सूत्र में पिरोने वाला होना चाहिए. भागवत ने कहा, ‘जब भी भारत और इसकी संस्कृति के लिए समर्पण जाग्रत होता है और पूर्वजों के प्रति गौरव की भावना पैदा होती है तो सभी धर्मों के बीच भेद समाप्त हो जाता है और सभी धर्मों के लोग एक साथ खड़े होते हैं.’

मंदिर राष्ट्रीय मूल्यों और चरित्र का प्रतीक
अयोध्या (Ayodhya) में राम मंदिर (Ram Mandir) निर्माण के संदर्भ में आरएसएस प्रमुख ने कहा कि यह केवल परंपरागत उद्देश्यों के लिए नहीं है बल्कि मंदिर राष्ट्रीय मूल्यों और चरित्र का प्रतीक होता है. उन्होंने कहा, ‘वास्तविकता यह है कि इस देश के लोगों के मनोबल और मूल्यों का दमन करने के लिए मंदिरों को ध्वस्त किया गया. इस कारण से लंबे समय से हिंदू समाज मंदिरों का पुनर्निर्माण चाहता था. हमारे जीवन को त्रस्त किया गया और हमारे आदर्श श्रीराम के मंदिर को गिराकर हमें अपमानित किया गया. हम इसका पुनर्निर्माण करना चाहते हैं, इसका विस्तार करना चाहते हैं और इसलिए भव्य मंदिर बनाया जा रहा है.’





Source link

Leave a Reply

Most Popular

लोकल मांग को पूरी करने की योजना: इंडियन ऑयल 33 हजार करोड़ रुपए का निवेश करेगी, पानीपत रिफाइनरी की क्षमता बढ़ाएगी

Hindi NewsBusinessIndian Oil To Invest 33 Thousand Crore Rupees, Increase Capacity Of Panipat RefineryAds से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल...

ऑलराउंडर यूसुफ पठान का संन्यास: कहा- भारत के लिए 2 वर्ल्ड कप जीतना और सचिन को कंधे पर उठाना करियर के सबसे यादगार पल

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐपबड़ौदा3 घंटे पहलेकॉपी लिंकभारतीय ऑलराउंडर यूसुफ पठान ने क्रिकेट के...

ब्लड शुगर कंट्रोल करने में मदद करता है नारियल पानी, इसे पीने के हैं और भी कई फायदे

नई दिल्ली: डायबिटीज के मरीजों को मीठी चीजों, खासकर शुगरी ड्रिंक्स से दूर रहने की सलाह दी जाती है ताकि उनके शरीर का...

Recent Comments

Live Updates COVID-19 CASES
%d bloggers like this: