Home Rajasthan खेरवाड़ा में व्यापारियों ने किया थाने का घेराव, बोले सरकार सब खत्म...

खेरवाड़ा में व्यापारियों ने किया थाने का घेराव, बोले सरकार सब खत्म होने के बाद चेतेगी क्या?


  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Dungarpur Udaipur Violence Protest News: Miscreants Set Fire To Buses And Hotels, Rajasthan Local Speaks On Ashok Gehlot Government

खेरवाड़ा7 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

डूंगरपुर। उदयपुर-अहमदाबाद हाईवे पर उपद्रवियों द्वारा जलाए गए टायर।

  • खेरवाड़ा में बीती रात उपद्रवियों ने 5 बसें फूंकी और कई होटलों में की तोड़फोड़
  • व्यापारी बोले हमारे नुकसान की भरपाई कौन करेगा, पुलिस कोई एक्शन नहीं ले रही

डूंगरपुर में उदयपुर-अहमदाबाद हाईवे पर तोड़फोड़ और आगजनी करने वाले उपद्रवियों ने बीती देर रात खेरवाड़ा में भी जमकर उत्पात मचाया। जिले के बॉर्डर और उदयपुर जिले में लगने वाले खेरवाड़ा में पांच निजी ट्रेवल्स की बसें जला दीं तथा दुकानों-होटलों में तोड़-फोड़ की। इसके विरोध में शनिवार को व्यापारियों ने खेरवाड़ा थाने का घेराव किया।

व्यापारियों ने एसडीएम को ज्ञापन भी दिया है। मामले को बढ़ता देख प्रशासन ने आदिवासी बहुल खेरवाड़ा और ऋषभदेव में भी इंटरनेट बंद कर दिया है। हालात को भांप कर आईजी बिनीता ठाकुर, एसपी कैलाश चंद्र विश्नोई जिला कलेक्टर चेतन देवड़ा जाब्ते सहित खेरवाड़ा में मौजूद रहे। खेरवाड़ा में व्यापारियों ने कहा कि हमारी दुकानें लूटी जा रही हैं और सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी है। हमारा जो नुकसान हुआ है उसकी भरपाई कौन करेगा। जब सब खत्म हो जाएगा तब सरकार चेतेगी क्या। हालांकि दिन में कोई अप्रिय घटना सामने नहीं आई।

उल्लेखनीय है कि पिछले तीन दिन से डूंगरपुर जिले में उदयपुर-अहमदाबाद नेशनल हाईवे पर कांकरी डूंगरी के पास गुरुवार शाम चार बजे से अराजकता का नंगा नाच जारी है। उपद्रवियों ने दो दिनों में पुलिस की गाड़ियों सहित करीब 55 से अधिक वाहन फूंक डाले हैं, कई मकानों-दुकानों, होटलों में लूटपाट की है।

सिसोद से मोतलीमोड़ के बाद अब उदयरपुर बॉर्डर तक पहुंचे ​​​​​​सिसोद से मोतलीमोड़ के बीच पांच किलोमीटर का एरिया उपद्रवियों के कब्जे में है। यहां परिवहन पूरी तरह रुका हुआ है। अब ये डूंगरपुर के बॉर्डर पर तथा उदयपुर जिले में खेरवाड़ा तक पहुंच गए हैं। पुलिस इनके आगे बेबस नजर आ रही है।

हाईवे पर एक होटल में की गई तोड़फोड़।

हाईवे पर एक होटल में की गई तोड़फोड़।

यह है मांग
एसटी अभ्यर्थियों की मांग है कि शिक्षक भर्ती की जो रीट 2018 की परीक्षा हुई थी उसमें खाली रहे अनारक्षित वर्ग के 1167 पदों को भी एसटी सीट से भरा जाए। इस मांग को लेकर कांकरी डूंगरी में अभ्यर्थी 18 दिनों से आंदोलन कर रहे थे। स्थानीय जनप्रतिनिधियों से मुलाकात भी की प्रशासन ने भी समझाया लेकिन वाजिब नहीं होने के कारण इसे पूरा नहीं किया जा सका।

उग्र क्यों हुए अभ्यर्थी
दरअसल 24 सितंबर को टीएसपी क्षेत्र के इस मुद्दे को लेकर बैठक होनी थी, लेकिन एक दिन पहले 23 सितंबर को संयुक्त शासन सचिव नेहा गिरी ने बैठक स्थगन की सूचना का पत्र जारी कर दिया। यह पत्र सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।

जिसके बाद काकरी डूंगरी पहाड़ी पर विरोध प्रदर्शन कर रहे अभ्यर्थी आक्रोशित हो गए। अभ्यर्थियों को लगा कि मुद्दे को लगातार टाला जा रहा है। इस पर गुरुवार को अभ्यर्थियों ने हाईवे जाम कर दिया। अभ्यर्थियों के समर्थन में बड़ी संख्या में बड़ी संख्या में आदिवासी भी एकत्र हो गए जिससे हालात विकट हो गए। पुलिस हाईवे खुलवाने पहुंची तो उन्होंने उस पर हमला कर दिया और आगजनी शुरू कर दी।

पुलिस को इसलिए आई मुश्किल
कांकरी डूंगरी के जिस इलाके में उपद्रवियों ने हाईवे पर कब्जा किया है वह करीब आठ किलोमीटर का इलाका जंगल और पहाड़ियों दोनों तरह उपद्रवी छिपे हुए हैं। जैसे ही पुलिस हाईवे पर आगे बढ़ती है उपद्रवी उस पर पथराव शुरू कर देते हैं इस पर पुलिस को पीछे हटना पड़ता है।



Source link

Leave a Reply

Most Popular

गैस और कब्ज की समस्या से हैं परेशान, तो करें इन फूड्स का इस्तेमाल, मिलेंगे गजब के फायदे

भोपालः आज के दौर में घंटों तक बैठकर काम करना जैसे एक चलन बन गया है. लेकिन इस तरह की लाइफस्टाइल के कई...

Recent Comments

Live Updates COVID-19 CASES
%d bloggers like this: